NCR Full Form, NCR का फुल फॉर्म क्या है

NCR Full Form, NCR का फुल फॉर्म क्या है

हेल्लो दोस्तों, आज की ये आर्टिकल्स NCR Full Form के बारे में हैं आप में से कई लोग NCR के बारे में सुने होंगे लेकिन कभी ये जानने की कोशिश की है की आखिर NCR ka Full Form ( What Is Full Form Of NCR ) क्या होता है तो आज की इस आर्टिकल्स में हम आपको बताएँगे की NCR क्या है और इसका अर्थ हिंदी में क्या होता है |

सबसे पहले जान लेते है NCR Full Form के बारे में और इसका पूरा मतलब क्या होता है वो भी जानेंगे तो दोस्तों इस आर्टिकल्स को ध्यान से पढ़े तभी आप जान पाएंगे की एनसीआर क्या है तो चलिए जानते है| 

NCR Full Form, एनसीआर का पूरा नाम क्या है

NCR Full Form

एनसीआर का पूरा नाम – नेशनल कैपिटल रीजन होता है ( National Capital Region  )

और इसका Full Form – National Capital Region होता है और इसका अर्थ हिंदी में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र होता है

भारत की राजधानी दिल्ली के साथ एनसीआर लिखा हुआ आपने देखा ही होगा। दिल्ली एनसीआर शब्द अखबारों की सुर्खियों में बना रहता है, लेकिन इसका मतलब क्या होता है और एनसीआर क्या है, चलिए  जानते हैं।

NCR का फुल फॉर्म क्या है , What Is Full Form Of NCR In Hindi?

NCR ka full form –  National Capital Region  है, और इसे हिंदी में नेशनल कैपिटल रीजन के रूप में लिखा जाता है और इसका हिंदी अनुवाद है: राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एनसीआर वह क्षेत्र है जो Capital Delhi से सटा हुआ है और Development के लिए जिसे दिल्ली की राजधानी से जोड़कर विकसित किया जा रहा है।

एनसीआर क्षेत्र में हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के जिलों को एनसीआर क्षेत्र में शामिल किया जा रहा है ताकि दिल्ली स्थित सरकार का चारों ओर विकास का समान प्रभाव हो सके।

एनसीआर के अंतर्गत आने वाले प्रमुख शहरों में गुरुग्राम, गाजियाबाद, फरीदाबाद, मुजफ्फरनगर और नोएडा शामिल हैं। दिल्ली के साथ इन शहरों और नए विलय वाले जिलों को एक संयुक्त नाम दिया गया है जिसे NCR कहा जाता है।

मौजूदा में एनसीआर की सीमा में आने वाले शहरो की संख्या 19 है, जिसे भविष्य में बढ़ाया जाएगा। एनसीआर के बारे में ज़रूरी बात यह है कि इसमें देश की आबादी का वह हिस्सा शामिल है जो आर्थिक रूप से मजबूत और पढ़ा लिखा है |

इन नागरिकों की प्राक्कलित संख्या 4 करोड़ 70 लाख है, जिसके कारण central zone की उन्नति में उनका महत्वपूर्ण भूमिका है। एनसीआर के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र की पर्यवेक्षण राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड यानि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र योजना बोर्ड द्वारा की जाती है

जिसकी नीवं वर्ष 1985 में रखी गई थी। इस बोर्ड का कार्य NCR की सीमाओं का मूल्य निर्धारण करना है और साथ ही यह बोर्ड इस क्षेत्र के विकास के लिए योजना बनाता है और विकास के लिए सीमांकित लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए हर जिम्मेदारी लेता है।

अब मसला यह उठता है कि दिल्ली के विकास का असर अपने आप आसपास के इलाकों पर हो रहा था तो फिर एनसीआर बनाने की जरूरत क्यों पड़ी? इसका उत्तर दुर्व्यवस्थित विकास के बजाय संतुलित विकास पर जोर देना है।

National Capital Region

क्योंकि अगर दिल्ली से प्रभावित इलाके बिना योजना के विकास की रफ्तार पकड़ लेते हैं तो यह विकास एक खास दिशा में आगे बढ़ना शुरू कर सकता है. इसका नुकसान यह होगा कि यदि विकास उत्तरी क्षेत्रों की ओर बढ़ता है

तो दक्षिणी क्षेत्रों में मंदता दिखाई देगा और यदि यह दक्षिणी क्षेत्रों की ओर बढ़ता है, तो उत्तरी क्षेत्रों में पिछड़ेपन का व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

इसलिए दिल्ली को केंद्र मानकर विकास हर क्षेत्र में समान रूप से गतिशील होना चाहिए और धीरे-धीरे पूरे देश को विकसित करते हुए इसी उद्देश्य से एनसीआर बनाया गया है। इसलिए एनसीआर बोर्ड को हर स्तर पर और हर क्षेत्र में समान विकास की गति तेज करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

अन्य पढ़े:-

आज आपने क्या सिखा है NCR का फुल फॉर्म क्या है ( NCR Full Form ) उमीद करता हूँ की इस आर्टिकल्स को पढने के बाद आप जान गये होंगेे NCR क्या है और इसका फुल फॉर्म क्या है अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा तो हमे कमेंट्स करके ज़रूर बताए और अपने दोस्तों को भी भेजे ताकि उन्हें भी पता चल सके की  एनसीआर का फुल फॉर्म क्या होता है और अगर मै इसी तरह का पोस्ट और भी लाता रहूँ तो हमे ज़रूर बताए |

About borntoblog

Borntoblog.in is a professional blogging platform where you can read a lot of articles related to Innovation, Technology, Education, Health, Finance, Make Money, Web Series, Movies Etc..

Check Also

Dream 11 Kaise Jeete

Dream 11 Kaise Jeete और First Rank कैसे लाये Dream11 Prediction 2022

कैसे हैं आप सब उम्मीद करता हूं ठीक होंगे दोस्तों आज का टॉपिक बेहद महत्वपूर्ण …

Leave a Reply

Your email address will not be published.